चुनाव से पहले चलाया एग्जिट पोल, नंदीघोषा टीवी पर निर्वाचन आयोग का सख्त एक्शन

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

चुनाव से पहले चलाया एग्जिट पोल, नंदीघोषा टीवी पर निर्वाचन आयोग का सख्त एक्शन

नंदीघोषा टीवी पर चुनाव आयोग का कड़ा रुख

वोटिंग से पहले एग्जिट पोल का प्रसारण करने वाले ओडिया टीवी चैनल नंदीघोषा के खिलाफ चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है। चुनाव संपन्न होने से पहले, इस चैनल ने बीजू जनता दल (बीजेडी) के समर्थन में एग्जिट पोल का प्रसारण किया। इस प्रसारण में बीजेडी के भारी बहुमत से सरकार बनाने का दावा किया गया, जिससे ओडिशा के विपक्षी दलों ने नाराजगी जताई और चुनाव आयोग से शिकायत की।

चुनाव आयोग ने ओडिशा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को नंदीघोषा टीवी के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया। आरपी अधिनियम 1951 की धारा 126ए के तहत एग्जिट पोल प्रतिबंधित हैं। आयोग ने पहले ही 19 अप्रैल को चुनाव की अधिसूचना जारी करते हुए टीवी चैनलों को हिदायत दी थी कि वे एक जून की शाम 6:30 बजे से पहले एग्जिट पोल का प्रसारण न करें। ऐसा करना चुनाव प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न करता है।

नवीन पटनायक की छठी बार जीत की कोशिश

ओडिशा में 13 मई से एक जून के बीच चार चरणों में लोकसभा की 21 और विधानसभा की 146 सीटों के लिए वोटिंग हो रही है। इस चुनाव में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक लगातार छठी बार जीतने के लिए मैदान में हैं। यदि बीजेडी को जीत मिलती है, तो पटनायक देश के सबसे लंबे समय तक कुर्सी पर काबिज रहने वाले सीएम बन जाएंगे। पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेडी ने 113 सीटें जीती थीं, जबकि बीजेपी ने 23 और कांग्रेस ने 9 सीटें हासिल की थीं।

बीजेपी और बीजेडी के बीच कड़ा मुकाबला

ओडिशा में 21 लोकसभा सीटों के लिए भी वोटिंग हो रही है, जिसमें बीजेपी और बीजेडी के बीच कड़ा मुकाबला देखा जा रहा है। बीजेपी इस चुनाव में पुरी के जगन्नाथ मंदिर के खजाने की चाबी, ओडिया अस्मिता और सीएम के स्वास्थ्य के मुद्दों को उठा रही है। इसके अलावा, बीजेडी नेता वीके पांडियन के तमिलनाडु कनेक्शन को भी चुनाव में खूब उछाला जा रहा है। पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेडी ने 12 सीटें जीती थीं, जबकि भाजपा ने 8 और कांग्रेस ने केवल एक सीट हासिल की थी।

चुनाव आयोग के इस कड़े कदम से यह स्पष्ट है कि किसी भी तरह की चुनाव प्रक्रिया में बाधा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। नंदीघोषा टीवी के खिलाफ यह कार्रवाई भविष्य में अन्य चैनलों के लिए भी एक नजीर बन सकती है।

इस चुनावी माहौल में, ओडिशा की जनता किसे चुनेगी, यह देखना दिलचस्प होगा। वहीं, नंदीघोषा टीवी के खिलाफ कार्रवाई से यह भी साफ है कि निर्वाचन आयोग निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top