बाज नहीं आ रहे हूती: अब हाइफा बंदरगाह को निशाना बनाने का दावा; इस्राइल ने कहा- ऐसी कोई घटना नहीं हुई

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हुतियों ने नवंबर के बाद से अपने हमलों को बढ़ा दिया है, जिसमें व्यापारी जहाजों को लक्षित किया जा रहा है, जिन्हें ईरान समर्थित समूह के लोग निशाना बना रहे हैं, इस्त्राइल, अमेरिका, और ब्रिटेन से जुड़े।

लाल सागर में इस्राइल-हमास युद्ध के बाद, अंतरराष्ट्रीय शिपिंग लेन से गुजरने वाले क़रीब दो दर्जन व्यापारिक जहाजों पर हमले हुए हैं। हूती ने अपने विद्रोही जहाजों को लक्ष्य बनाया है और इस्राइल के हाइफा बंदरगाह के जहाजों पर भी हमले की संभावना है, लेकिन इस्राइली सेना ने इसे नकारा है।

संयुक्त हवाई हमले किए

यमन के हूती समूह ने गुरुवार को दावा किया कि उन्होंने इराकी समूह के साथ मिलकर हवाई हमले किए थे, जिसमें इस्राइल के हैफा बंदरगाह में विमानों को लक्ष्य बनाया गया था। हालांकि, इस्राइली सेना ने इस दावे को झूठा ठहाराया।

सी किसी भी घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं

हौथी सेना के प्रवक्ता यह्या सरिया ने कहा कि गाजा के रफा में इस्राइलियों द्वारा किए गए नरसंहार के जवाब में हैफा बंदरगाह को निशाना बनाया गया। वहां ड्रोन हमले किए गए। इसी बीच, इस्राइली सेना से जुड़े सूत्रों ने कहा कि ऐसी किसी भी घटना के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। हैफा में काम करने वाली कंपनियों के लोगों ने कहा कि बंदरगाह सामान्य रूप से काम कर रहा था।

सरिया ने दावा किया कि एक अभियान के दौरान सैन्य उपकरणों को ले जाने वाले दो जहाजों को निशाना बनाया गया, और एक और जहाज को भी निशाना बनाया गया, जो हूती के प्रवेश प्रतिबंध की उल्लंघन किया था। साथ ही चेतावनी दी गई कि इस्राइलियों को और अधिक हमलों की उम्मीद करनी चाहिए।

  
पिछले साल से बढ़े हैं हमले

हूतियों ने नवंबर के बाद से व्यापारिक नुक़सान बढ़ाने के लिए अपने हमलों को बढ़ा दिया है। ईरान समर्थित समूह का कहना है कि वे इस्राइल, अमेरिका, और ब्रिटेन से जुड़े जहाजों को निशाना बना रहे हैं। वास्तव में, हूतियां गाजा में युद्ध और पश्चिमी हवाई हमलों को रोकने की मांग कर रही हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top